Broadband क्या है ? कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिंदी में

Broadband क्या है?

Broadband क्या है? हर आदमी को आजकल Internet के बारे में कुछ ना कुछ पता है. हर जगह internet छाया हुआ है. Internet की बिना हम कुछ भी नहीं कर सकते . Broadband का नाम तो सुना ही होगा. Broadband किया है? उसके बारे में आजहम बिस्तार से इस लेख पर चर्चा करेंगे. Broadband Connection सुनते ही हमारे मन में ये आभास हो जाता है की ये High Speed इंटरनेट कनेक्शन है. जो Dial Up Access Internet से ज्यादा speed में Internet प्रोवाइड करता है. जो हर बक्त on रहेता है.

Broadband Internet Service आजकल बहुत सारे जगहों पर ब्यबहार किया जाता है. ये High Speed Internet Access कारण स्कूल,कॉलेज,ऑफिस,बैंक, हर जगा ब्यबहार मैं लिया जाता है. Broadband Internet Service अलग अलग forms में होते है, जैसे की DSL ,Coaxial cable, Optical fiber, Cable . यूजर अपनी जरुरत के हिसाब से चयन करते हैं.

Broadband क्या है

Types of Broadband Connection – हिंदी में

हम लोग आज जानेगे Broadband में केई high Speed Transmission Line है। जो निचे दिए गई है. उसके बारे में चर्चा करेंगे.

  • डिजिटल सब्सक्राइब लाइन DSL (Digital Subscriber Line )
  • ADSL (Asymmetrical Digital Subscriber Line)
  • SDSL (Symmetrical Digital Subscriber Line)
  • केबल मॉडेम Cable Modem
  • फीवर ऑप्टिक केबल Fiver Optic cable
  • वायरलेस Wireless
  • Satellite

डिजिटल सब्सक्राइब लाइन DSL (Digital Subscriber Line )

DSL टेलीफोन लाइन के ऊपर ये काम करता है. DSL (Digital Subscriber Line) ये Wireless Transmission Technology के आधारित काम करती है. DSL जो Digital Information को Multiple Channel से भेजती है.

DSL का स्पीड सेवेरल हंड्रेड Kbps लेके Mbps Millions bits per second पर ट्रांसमिशन स्पीड प्रदान करती है. DSL का speed Distance Switching Station के ऊपर निर्भर करता है. आप का घर या बिज़नेस establishment कितने दूर पे है. इसी की आधार पैर DSL का speed निर्भर करता है.

DSL का अपडेटेड version VDSL नाम से जाना जाता है. VDSL (Very High bit rate Digital Subscriber Line) टेक्नीक द्वारा hundreds of kilohertz wide (broadband) से 100 megabits तक पैर second काम कर ता है.

ADSL (Asymmetrical Digital Subscriber Line)

मुख्य रूप से होम यूजर या फिर Internet parlor होते है जहाँ पर ज्यादा तोर पे Internet download किया जाता है. लेकिन कम भेजे जाते हैं. ADSL Line ज्यादा तर down stream का speed ज्यादा रहता है. तुलना में Up Stream का speed . यूजर को ये सुभीधा ADSL में रहती की इंटरनेट को बिना बाधा प्राफ्त हुए telephone कॉल्स को भी साथ साथ ब्यबहार करसकता है.

SDSL (Symmetrical Digital Subscriber Line)

आम तोर पे जो professional होते है. जिसको upstream speed और downstream speed जादा जरुरत पड़ती है। उस टाइप्स के लोग SDS Line ब्यबहार करतें है.

केबल मॉडेम Cable Modem

TV में बिभिन्ना chennal देखने के लिए हम लोग cable connection लगते है. Cable Service Provider अगर Internet Service एक साथ प्रोवाइड करता है। तब जेक हम लोग इसी Cable Connection की माध्यम से इंटरनेट भी Access करसकते है. इसी प्रकार उपयोग में आने बाले Cable को coaxial cable कहा जाता है.जादा तर cable modem external होता है. जिसमें दो connection होते हैं।

एक Cable wall out और दूसरा computer में लगाने के लिए। Computer में लगा के Internet को एक्सेस किआ जाता है. Cable modem में ISP के जरुरत नहीं पड़ती। ये सीधे computer में लगा के Internet Access किया जाता है.Internet Speed ट्रैफिक लोड ,cable network के ऊपर आश्रित रहता है. एक साथ एक ही समय पर अगर जादा तर यूजर internet access करेंगे तो उसके speed ऊपर असर पड़ता है. ये करीब 1.5mbps या उसे जादा transmission speed प्रदान करता है.

फीवर ऑप्टिक केबल  Fiver Optic cable

Fiber Optic एक नया broadband connection जो की बहुत fast internet प्रदान करता है. Fiber optic technology डाटा को infrared light के form में transmit करके optical fiver के माध्यम से भेजती है.अपनी server तक पहचने तक वापस लाइट forms से digital forms में बदल दिया जाता है. इसीलिए इसकी internet बहुत ही fast रहती है. उसकी speed करीब करीब 100 Mbps होती है.

वायरलेस Wireless

Wireless broadband ग्राहक के स्तान पर service provider एक छोटा सा डिश या antenna लगता है. ग्राहक और service provider के सुभीधा के बिज़ एक रेडियो links से internet से connect किया जाता है. Wireless broad band बिसेष कर ग्रामीण खेत्र में popular है. जहाँ DSL ,cable types इंटरनेट उपलध नहीं है.

सॅटॅलाइट Satellite

जहाँ गमन गमन सुबिधा नहीं है. जहाँ की भौगोलिक परिस्तिथि बहुत कठिन है,दुर्गम पहाड़ है. जादा तर उन जगह पर satellite के माध्यम से internet उपलध कराया जाता है. ये भी एक प्रकार का Wireless broad band है. satellite की speed downstream और upstream बहुत से फेक्टर के ऊपर निर्भर करता है.

Broadband के Advantages  

  • Low cost – इसकी कीमत बहुत काम है. अगर इसकी speed अन्य internet के साथ तुलना करेंगे तो.
  • High Speed Internet – Broadband में डाटा High Speed से transfer होता रहता है.
  • Consistency – Broadband में डाटा समान्तराल रूप से चलता रहता है. कभी कभार थोडे बहुत ऊपर निचे हो जाता है.
  • Always On – Broadband हर बख्ता on रहता है।

Dis-Advantages of Broadband  

  • Fix – Broadband घर में एक ही जगा में उसे फिक्स रखना पड़ता है. इसी बजाये एक स्थान से दूसरी स्थान transfer करना बहित ही मुश्किल हो जाता है.
  • Telephone Line Rental – Broadband Telephone Line से ही transmission होता रहता है. इसी लिए यूजर को Telephone  Line एक connection भी लेना पड़ता है। जो monthly rent भी देना पड़ता है.
  • Competition With Mobile Internet -Technology की नेये नेये आबिस्कर हेतु आज कल Mobile से भी 3g,4g,5g आजाने से Internet Service प्रदान कर तें है. जो इसकी speed भी बहुत आछि रहती है।
  • लोग धीरे धीरे fix Broadband को काम ब्यबहार करने लगे है. कुएं की ये fixed है। आज कल ज्यादातर लोग Mobile Broadband ब्यबहार करने लगे है. कुएं की येflexible है। एक स्थान से दूसरे स्थान तक लिए जाते हैं.

आशा करता हूँ Broadband क्या है? कैसे काम करता है. Broadband कितने प्रकार का है. ये सब इसी article समझने के ये छोटा सा प्रयास किया गया है. जो आप लोगो को पसंद आया होगा. आप के मन में इस आर्टिकल बारे में कुछ भी doubts है या फिर article में और सुधर किया जासकता है. तो कृपया कर के नीचे comment करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here