Home Computer कंप्यूटर क्या है? – कंप्यूटर कैसे काम करता है कंप्यूटर के बारे में...

कंप्यूटर क्या है? – कंप्यूटर कैसे काम करता है कंप्यूटर के बारे में जानकारी हिंदी में?

कंप्यूटर क्या है? आज हम उसके बारे में इस article में बिस्तार रूप से चर्चा करेंगे. आज की डिजिटल दुनिआं में
कंप्यूटर  मनुष्य का एक अभिन अंग बनगया है.हर जगह हर स्थान पर कम्यूटर का ब्यबहार हो रहा है.

कंप्यूटर मनुष्य जीवन के जीने की तरीका को बहुत ही आसान बना देता है. कंप्यूटर मनुष्य जीवन का एक अहम हिस्सा बन चूका है.स्कूल ,कालेज ,दफ्तर ,घर, बैंक,रेल ,मेडिकल इत्यादि। हर जगह पर कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है. कंप्यूटर केद्वारा काम काज सठिकता से जल्द से जल्द कार्य संपादन हो रहा है.

आज हम कंप्यूटर क्या है ?Computer details in hindi कंप्यूटर कैसे काम करता है. What is computer in hindi कंप्यूटर की  परिभाषा  कंप्यूटर की कार्य-प्रणाली ये सब इसी लेख में बिस्तर रूप से चर्चा करेंगे.

कंप्यूटर क्या है? What is Computer in Hindi

कंप्यूटर एक एलोट्रोनिक मशीन है. जो उपयोगकर्ता के द्वारा दिये गये इनपुट डाटा को प्रोसेस करके सूचना को
आउटपुट के रूप में प्रदान करता है. उपयोगकर्ता के द्वारा दिए गए निर्देश को पालन करता है. कंप्यूटर में डाटा को
रखा जाता है. जिससे इस डाटा को भबिष्य में उपयोगकर्ता के दुबारा  उपयोग में आसक्त है. Computer ये शब्द Latin शब्द Computare लिया गया है. Computare अर्थ है गणना करना।

कंप्यूटर क्या है

कंप्यूटर की परिभाषा क्या है?

कंप्यूटर आमतौर पे तीन काम से अपना काम को प्रतिपादित कर ता है. पहला काम उपयोगकर्ता के डाटा को जो इनपुट कहा जाता है.दूसरा काम उस इनपुट उपयोगकर्ता का इनपुट डाटा को process करने को हो ता है.

और तीसरा काम और सब सेआखिर काम process डाटा को उपयोगकर्ता के सामने दिखा ना. उसे आउटपुट भी कहतें है. . कुछ साल पहले तक आपने  बैंको में कार्यालय में ढेरो फाइलों के अम्बर लगा हुआ देखा होगा। इतनी फाइल को ठीक से संभाल कर रखना भी बहुत ही कठिन और खर्ज्तान  ब्यापार है.

ये सब तकलीफ से कंप्यूटर एक मिनिट में हल कर देता है.कंप्यूटर के लिए जादा जगह की जरुरत नहीं है. कंप्यूटर एक छोटा सा टेबल के ऊपर भी रखा जा सकता   है. और बहुत सारे डाटा को बहुत आसानी से रख पाती है.

कंप्यूटर कैसे काम करता है?

आज कल हर कोई computer,Laptop,tablet ब्यबहार करता है. उनमे से बहुत सारे ऐसे लोग भी है. जो उनको ये मालूम नहीं है की कंप्यूटर कैसे काम करता है. थोड़ी बहुत यहां हम चर्चा करेंगे कंप्यूटर कैसे काम करता है.

Input

जो उपयोगकर्ता इनपुट डिवाइस के द्वारा आपने तथ्य को कंप्यूटर में डालता है. उसे Input data कहा जाता है. जैसे की उपयोगकर्ता कोई text,video,image डालता है.

Processing

उपयोगकर्ता के input डाटा को कंप्यूटर processing करता है. ये संपूर्णा तह कंप्यूटर का इंटरनल process होता है. ये उपयोगकर्ता के इनपुट डाटा जानकारियां के अनुसार process करता है.

Output

उपयोगकर्ता के इनपुट डाटा को process  से निकला परिणाम के स्वरुप में monitor में दिखने को output कहा जाता है. जब डाटा प्रोसेस हो जाता है उपयोगकर्ता आपने  monitor audio video device में देख  सकता है. ये आउटपुट डाटा को उपयोगकर्ता save कर के storage में रख सकता है. ताकि भबिष्यत में दुबारा काम में आ सके।

कंप्यूटर क्या है हिंदी में ? – What is computer in Hindi

कंप्यूटरकई  तरह की कार्य करने के लिए कई तरह की उपकरण और programme को साथ में लेके कार्य संपादन करता है.ये उपकरण और programme को कंप्यूटर की Hardware और Software कहा जाता है. आज हम कंप्यूटर के इस उपकरण और software के बारे में कुछ चर्चा करेंगे.

System Unit

System Unit एक बॉक्स टाईप का होता है. इस के अंदर कंप्यूटर को चलाने के लिए बिभिन्न प्रकार का जंत्र लगा हुआ रहेता है. ताकि कंप्यूटर आसानी से चल सके आसानी से आपने कार्य को ठीक रूप से कर सके . बॉक्स को तकनीकी भाषा में CPU (Central Processing Unit ) कहा जाता है. उसे computer case भी कहा जाता है. इस CPU के अंदर बहुत सारे आबश्यक जंत्र लगे होते हैं. जैसे की Motherboard,Ram,Processor,Hard disk,Power Supply Unit , Expansion Cards इत्यादी।

Motherboard

कंप्यूटर का मुख्य circuit board को mother board कहा जाता है. मोटा मोटी कहा जाए तो कंप्यूटर का मुख्य अंग mother board है. इसमें सभी हिसो को जोड़ा दिया  जाता है. ताकि कंप्यूटर आसानी से अपनी कार्य कर सके. Computer details in hindi जैसे की CPU, Mouse,Keyboard,Printer,Connector Hard Disk Drive को जुड़ा रहता है. देखा जाए तो कंप्यूटर के हर patrs को motherboard  प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से जुड़ा रहेता है.

Processor

ये कंप्यूटर case के अंदर motherboard में रहेता है. इसको कंप्यूटर का दिमाग भी कहा जाता है. ये कंप्यूटर के अंदर जितने भी कार्य होता है. सब के ऊपर नज़र रखता है.

और कंप्यूटर को नियंत्रित करता है. Processor का speed जीतिनि ज्यादा होगी । उतीनी ही speed से उपयोगकर्ता का इनपुट डाटा को processing कर पाता  है.

Hard Disk Drive

कंप्यूटर के Storage के रूप में काम करता है. Hard Disk Drive में software ,दस्ता बेज़ फाइल को सेव किआ जाता है. उपयोगकर्ता के जितने भी डाटा चाहे text रूप में हो या video के रूप में हो ,चाहे किसी अन्य प्रकार के डाटा हो। ये सब Hard Disk Drive में संभल कर कंप्यूटर रखता है। भबिस्य में यही डाटा उपयोगकर्ता के काम में दुबारा आसके.

Operating System क्या है? कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिंदी में

USB Full Form क्या है? यूएसबी के प्रकार जानकारी हिंदी में

RAM (Random Access Memory)

RAM कंप्यूटर के short term memory होता है. उपयोगकर्ता जो भी काम कंप्यूटर में काम करता है. कंप्यूटर में जब भी कुछ calculations होता है। जो परिणाम निकल ता है। उस परिणाम को temporarily उस परिणाम को RAM में सेव  कर लेता है.

RAM को main memory या primary memory  भी कहा जाता है. जब तक कंप्यूटर चलता रेहता है। तब तक कंप्यूटर में होने बाले process को RAM में save करता रेहता है. जब कंप्यूटर बंद हो
जाता है तो RAM में save हुए पूरा डाटा चला जाता है. RAM में डाटा short term के लिए डाटा save हो के रेहता है.

Power Supply Unit

कंप्यूटरको चलने के लिए power supply की अनिबर्य होता है. कंप्यूटर को power supply कर ने के लिए एक जंत्र होता है. उस जंत्र को SMPS (Switched Mode Power Supply) नाम से जाना जाता है. उस जंत्र के द्वारा कंप्यूटर के हर parts को जीतीनी power की जरुरत होती है। उसी के हिसाब से SMPS से power supply होता रेहता है.

Monitor

उपयोगकर्ता जो input device के द्वारा डाटा कंप्यूटर को भेजता है। उस डाटा process हो के जो परिणाम निकल ता है। उस निकला हुआ आउटपुट परिणाम को दिखने के लिए monitor के जरुरत पड़ती है.

तब जाके उपयोगकर्ता कंप्यूटर से निकाला हुआ output process को सहज से मॉनिटर में देख सकता है.

Keyboard

उपयोगकर्ता कंप्यूटर को निर्देश देने के लिए एक input device माध्यम की जरुरत पड़ती है. कंप्यूटर को केबल input device द्वारा दीये गये निर्देश को ही जान पाता है.इसीलिए  Keyboard की जरुरत पडती है.

Keyboard के द्वारा उपयोगकर्ता कंप्यूटर को बिभिन्न प्रकार के निर्देश देता है.

Mouse

Mouse भी एक input device है. जिसके द्वारा उपयोगकर्ता कंप्यूटर को निर्देश देता है. इसके द्वारा कंप्यूटर में उपलध programme को उपयोगकर्ता ब्यबहार कर पाता  है.

Speakers

Speakers कंप्यूटर का एक output device है। जिसके द्वारा उपयोगकर्ता कंप्यूटर में गाना ,वीडियो गाना ,भाषण इत्यादी सुन सकता है.

Printer

Printer कंप्यूटर का एक output device है। उपयोगकर्ता अगर कोई document ,इमेज या फिर और कोई चीज को print करना चाहेगा तो प्रिंटर के साहारे उस चीज को प्रिंट कर सकता है.

कंप्‍यूटर के प्रकार – Types Of Computer in Hindi

कंप्यूटर के काम कर ने की आधार पर मूलतः तीन बिभाग से बाटा गया है.
Analog Computer
Digital Computer
Hybrid Computer

Analog Computer

Analog एक ऐसा कंप्यूटर होता है। जिसमे Analog signal का इस्तेमाल किया जाता है. Analog कंप्यूटर जो तापमान,गति ,लम्बाई इत्यादि को मापा जाता है.

मौसम बिज्ञान में हबा की दबाब ,बाताबरण में नमी, बारिस आज कीतीनी हुई ,या फिर आज के तापमान सब से कम या सब से जादा ये सब गणना Analog कंप्यूटर में किआ जाता है.

Digital Computer

Binary Digit के उपयोग करके कोडिंग language के साथ गणना किया जाता है. Digital Computer के परिणाम बहुत ही सठीक रहेती है. ये गणना को text graphic picture के रूप में प्रदान करती है.

Hybrid Computer

Analog signal और Binary digit को दोनों को साथ साथ समझ ने में इस में दक्ष्यता होता है. Analog signal और Bainary digit के process को परिणाम को दिखाती  है.

इसकी Analog भाग समीकरणों को process कर के उपयोगकर्ता सामने प्रस्तुत करता है. और डिजिटल भाग Logical calculation को गणना कर के उपयोगकर्ता के साम ने प्रस्तुत कर ता है. Hybrid कंप्यूटर में operating mode के हिसाब से गणना को उपयोगकर्ता के सामने दिखाती है.

कंप्यूटर  के फुलफार्म क्या है?

आम तोर पे Computer का फुलफॉर्म इस प्रकार का है.
C – Commonly , O – Operating , M – Machine , P – Particularly
U – Used in , T – Technology , E – Education and , R – Research

कंप्यूटर  की आबिस्कार ?

Charles Babbage को कंप्यूटर का जनक माना जाता है. Analytical Engine सन 1833 में Charles Babbage ने आबिस्कार किआ था । जो आधुनिक युग के कंप्यूटर के आधार माना जाता है. इसी के कारण Charles Babbage को Father of Computer कहा जाता है.

कंप्यूटर का इतिहास

आज से 3000 साल पहले प्राचीन यूरोप ,चीन में  Abacus प्रणाली द्वारा गणना किआ जाता था। प्रामाणिक रूप से कंप्यूटर के development को generations के हिसाब से बिभाजित कर दिया गया है. ये मुख्यतः 5 generation में बांटा   गया है.

कंप्यूटर  के प्रथम generation 1940 1956

कंप्यूटर  के प्रथम generation में vaccum tubes पर निर्भर पंच कार्ड ,पेपर टेप्स circuitry और magnetic drums को मेमोरी के लिए ब्यबहार किया जाता था। कंप्यूटर का मेमोरी बहुत बड़ा आकर का और बहुत ही ओजन दार रहता था।

कंप्यूटर लगाने केलिए एक बड़ा सा कमरे की जरुरत पड़ती थी. ये बहुत  महंगा आता  था. आम लोगो के लिए कंप्यूटरलगाना लगभग नामुकिन होता था.

प्रथम generation कंप्यूटर में बहुत सारे मुस्किलो का सामना करना पड़ता था. प्रथम generation कंप्यूटर बहुत हिट generate होता था. इसीलिए malfunction का खतरा उसमे रेहता था.

इस में पंच कार्ड और पेपर टेप्स को इनपुट के तरह ब्यबहार किया जाता था. इस में machine language का इस्तेमाल किआ जाता था. जैसे की UNIVAC और ENIAC है.

कम्यूटर के द्वितीय  generation 1956 1963

प्रथम generation कंप्यूटर में vacuum tubes का ब्यबहार किआ जाता था .लेकिन द्वितीय generation कंप्यूटर में vacume tube के जगा transistor ने ले ली.

प्रथम generation कंप्यूटर मे बहुत मात्रा से heat generate हुआ करती थी. Transistor के कारण द्वितीय कंप्यूटर generation में energy efficient हुआ.

और heat generate भी बहुत काम होगई। फिरभी द्वितीय generation कंप्यूटर में heat generate का मामला दिखाई देता था. द्वितीय generation कंप्यूटर में COBOL और FORTRAN जैसा High Level Programming Language को ब्यबहार में लिया गया।

कम्यूटर के तीसरी generation 1964 1971

कम्यूटर के तीसरी generation में integrated circuit का ब्यबहार किया गया था। उस में transistor को छोटा आकार दे कर silicon chip के अंदर डाला जाता था.

तीसरी generation कंप्यूटर का processing का कार्य करने के ख्यामता बहुत बड गयी थी । तीसरी generation कंप्यूटर में उपयोगकर्ता के मन मुताबिक काम किआ गया था. इस में monitor,keyboard,operative system को पहेली बार इस्तिमाल किआ गए था.

कम्यूटर के चौथी generation 1971 1985

चौथी generation कंप्यूटर में microprocessor को ब्यबहार में लाया गेया। चौथी generation कंप्यूटर में हज़ारोइंटीग्रेटेड chip को एक silicon chip के भीतर तैयार किआ गेया।

इसके द्वारा कंप्यूटर का आकर बहुत छोटा हो गेया। चौथी generation कंप्यूटर में microprocessor को ब्यबहार कर ने से कंप्यूटर का गुणबत्ता बहुत मात्रा में बड गई। ये बहुत ही कम समय पे बहुत बड़ी बड़ी calculations सठिकता से काम करती थी.

कम्यूटर के पांचबी generation 1985 से अबतक

पांचबी generation कंप्यूटर में Artificial Intelligence के ऊपर आधारित ही. पांचबी generation कंप्यूटर में voice recognition. Quantum calculation जैसे एडवांस तकनीक का इस्तेमाल आने लगी है.

ये और develop किया जा रहा है. पांचबी generation कंप्यूटरमें Artificial Intelligence के कारण कंप्यूटर खुद निर्णय ले सकता है.

कंप्यूटर में करियर

Computer Programmer

कंप्यूटर एक programming भाषा कोड्स से चलता है. जो उस कोड्स को लिखता है बनाता है। उसको कंप्यूटर
programmer कहा जाता है. एक कंप्यूटर programmer कंप्यूटर के भाषाओँ के जानकारी रखते हैं.

इन भाषाओँ को coding करने के लिए जोग्यता रखते हैं. कुछ प्रोग्रामर खास कर एक कंप्यूटर के एक बिशेस भाषा में केबल coding करते है. कंप्यूटर बहुत से कंप्यूटर भाषाओँ को संबलित कर के कंप्यूटर चलता है.

उपयोगकर्ता के सुबिधा सहज सरल और आसान करने के लिए। कंप्यूटर programmer ने बहुत से कंप्यूटर भाषाओँ का coding करते है. इस खेत्र में Career बनाने के लिए बहुत अच्छा मौका है. इस खेत्र में हर बक्त demand रेहता है.

Hardware Engineer

एक कंप्यूटर बहुत सारे जंत्र को संबलित हो के चलता है. कंप्यूटर चलने के लिए में बहुत सारे parts की जरुरत होती है. इन पार्ट्स को बनाने के लिए ,testing के लिए तथा नई जरुरत को नई challanges को बिश्लेषण करना Hardware Engineer का काम है. इस खेत्र में भी बहुत डिमांड रेहेता है. ये Career के हिसाब से आछा खेत्र माना जाता है.

Software Developer

एक Software Developer उपयोगकर्ता कैसे आसानी से कंप्यूटर ब्यबहार कर सकता है। इस के ऊपर बिश्लेषण कर के programme को बिकसित करता है. उपयोगकर्ता की कठनाई को  देखते हुए समस्या को कैसे हल किआ जाये
इसके ऊपर बिश्लेषण कर के प्रोग्राम निकलता है. ताकि उपयोगकर्ता को आसान हो सके. इस खेत्र में भी बहुत डिमांड रेहेता है.

Web Developer

जो content इंटरनेट में होते है। उस बिसयबस्तु को कैसे hosting करना app programming करना,website,domain hosting करना। ये सब web developer का काम होता है.  उस होस्टिंग को अटैकर्स से कैसे बचा के रखना. ये साब काम Web Developer का होता है.

Web Developer c c++,java,programming की भाषा होना जरुरी है. इस फील्ड में आप को कहीं पे भी जॉब मिल जाती है. चाहे Govt हो या private हो.

Computer Operator

आज की कंप्यूटर टेक्नोलॉजी की दुनिआ में Computer Operator के डिमांड बहुत है. Computer Operator का बिभिन्न जगह पे बिभिन्न काम होता है. जैसे की मेडिसिन whole selling में अलग ,होटल में अलग इत्यादी। जो  सरल भासा में कंप्यूटर को चलाना  जानता है और डाटा को कंप्यूटर में कैसे input  किया जाता है . बस इतने ही काम Computer Operator को करना पड़ता है.

DCA Course क्या है ? DCA का फुल फॉर्म क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

Hard Disk क्या है? हार्ड डिस्क का कार्य, पूरी जानकारी हिंदी में

Conclusion
आशा करता हूँ कंप्यूटर क्या है ? कैसे काम करता है. कंप्यूटर की परिभाषा क्या है? . कंप्यूटर कैसे काम करता है? ये सब इसी article में समझने के ये छोटा सा प्रयास किया गया है. जो आप लोगो को पसंद आया होगा. आप के मन में इस आर्टिकल बारे में कुछ भी doubts है या फिर article में और सुधर किया जासकता है. तो कृपया कर के नीचे comment करे। 

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

error: Content is protected !!