CPU क्या है?CPU फुल फॉर्म क्या है? CPU कैसे काम करता है जानकारी हिंदी में

CPU क्या है ? आज की डिजिटल दुनिआं में कम्प्यूटर का प्रचलन हर जगह हो रहा है. कम्प्यूटर बहुत सारे पार्ट्स को मिला के कम्प्यूटर बनता है. उसमें बहुत सारे पार्ट्स है. सभी पार्ट्स को मिला के कम्प्यूटर काम करता है. इन सभी पार्ट्स में CPU कम्प्यूटर का प्रथम दर्जे के पार्ट्स है. CPU(Central processing unit) के बिना कम्प्यूटर कुछ नहीं है. एक खाली डिब्बा है.

इसे कम्प्यूटर का ब्रेन भी कहा जाता है. कम्प्यूटर के अंदर जितने पार्ट्स होते हैं। उन सभी पार्ट्स को CPU कण्ट्रोल करता है. उन सभी पार्ट्स को निर्देश देता है. कम्प्यूटर कैसे सुचारु रूप से चल सके ये देखता है. जो लोग कम्प्यूटर का ब्यबहार करतें है. थोड़ा बहुत कम्प्यूटर के बारे जानते हैं. उन लोगो ने CPU के बारे में जानतें हैं.

कम्प्यूटर के कार्य सैली Cpu full form, CPU के कपैसिटी के ऊपर निर्भर करता है. कीतिनि कपैसिटी के CPU है. उस हिसाब से इनपुट
आदेश को कितने जल्दी प्रोसेस कर के उपयोगकर्ता के सामने परिणाम के स्वरुप उपस्तिथ करता है. ये सब CPU के कपैसिटी के ऊपर निर्भर करता है. जीतिने ज्यादा के कपैसिटी होगी ।

उतीनी जल्द cpu डाटा को प्रोसेस करेगा। जीतिनि कपैसिटी कम होगी उतीनी लेट से प्रोसेस हो के उपयोगकर्ता के सामने उपस्तिथ करेगा . जब उपयोगकर्ता नये कम्प्यूटर खरीद ता है. उस बक्त cpu के कपैसिटी को चेक करना चाहिए. उपयोगकर्ता को मालुम है.

कौन से काम के लिए कम्प्यूटर लेना है. उस काम के लिए cpu के कपैसिटी कीतीनी होने चाहिए। ये सब इंटरनेट हो या यूट्यूब में सब जानकारी मिलजाएगी। अगर आप को ये सब के बारे में पता नहीं है. तो दुकान दर ने आप को ज्यादा कैपसिटी बाला CPU बेच देता है.  उस से उसको ज्यादा पैसा मिलता है.

जो आप को लुकसान होता है. आप जिस काम के लिए कम्प्यूटर लेते हैं। उस काम केलिए कम कैपसिटी बाला CPU से भी काम चल सकता है. तो ज्यादा कपैसिटी बाला CPU ज्यादा पैसे खर्ज कर के कयूं लिया जाये.CPU क्या है? यह काम कैसे करता है। CPU के अंदर लगा हुआ पार्ट्स के बारे में आज बिस्तार रूप से इस लेख में चर्चा करेंगे.

CPU क्या है?

CPU(Central processing unit ) कम्प्यूटर का महत्वपुर्णा अंग है. CPU कम्प्यूटर से जुड़े Hardware Software सब को मैनेज करता है. ये कम्प्यूटर के सभी निर्देश को प्रोसेस करता है.ये कम्प्यूटर प्रोग्राम के इनपुट/आउटपुट सभी तरह के निर्देश को मैनेज करता है. CPU है जो बास्तब रूप कम्प्यूटर को उपयोगकर्ता के इनपुट डाटा/आउटपुट डाटा को प्रोसेस करने के लिए होती है. इसीलिए इसको Brain of Computer भी कहा जाता है. उपयोगकर्ता के इनपुट निर्देश को CPU में अंकगणित गणना और तार्किक संचालन के प्रोसेस कर के परिणाम स्वरुप उपयोगकर्ता के सामने रख देता है.

CPU क्या है

CPU के हिसे

बहुत सारे हिसे को सबलित हो के एक CPU बनता है. येसे तो CPU का बहुत सारे हिसे है. मुख्यत CPU को तीन हिसो में बटा गेया है.

  • Control Unit कण्ट्रोल यूनिट
  • Memory मेमोरी
  • ALU (Arithmetic Logical Unit)

Control Unit कण्ट्रोल यूनिट

कंट्रोल यूनिट कम्प्यूटर के सभी संचालोनो को नियंत्रित कर के रखती है. ये किसी प्रकार की बास्तबिक डाटा को प्रोसेस नहीं करती । ये डाटा के ट्रांसफर को कंट्रोलड करती है. ये कम्प्यूटर के अन्यभागो को निर्देश भेजने का काम करती है. ये
इनपुट/आउटपुट डिवाइस के बीज में समन्वय रखता है.

कम्प्यूटर के अंदर जितने भी डिवाइस लगा हुआ है। उन सभी के ऊपर नियत्रण करता है. ये निर्देश को पढ़ ता है और ब्याख्या करता है.और डाटा को संसाधित करने के लिए अनुक्रम निर्धारित करता है. Control Unit किसी भी डाटा को स्टोर या प्रोसेस नहीं करती . CPU में जितने भी अन्य उपकरण लगा हुआ है. उन सभी उपकरणों में डाटा को प्रभाह करने के लिए निर्देशित करता है.

Memory मेमोरी

Memory इस में डाटा को स्टोर किआ जाता है. कम्प्यूटर में दो तरह की मेमोरी होती है.

  1. Primary memory
  2. Secondary memory

Primary Memory कम्प्यूटर में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है. ये मेमोरी सीधे CPU से जुड़ा रहता है. इसके बिना कम्प्यूटर चल नहीं सकता। इस प्रकार मेमोरी को कम्प्यूटर का मुख्य मेमोरी भी कहा जाता है. primary memory में भी दो तरह की मेमोरी होता है.

  1. RAM
  2. ROM

RAM

CPU किसी भी मेमोरी सेल तक पहंच सकता है. बिना क्रमिक उस सेल तक पहंच कर उस सेल को एक्सेस भी कर सकता है. इस लिए इसे Random Access Memory भी कहा जाता है. CPU Randomly किसी भी सेल को एक्सेस कर सकता है. RAM एक अस्थिर मेमोरी है. जबतक कम्प्यूटर चालू रेहता है। तब तक RAM में डाटा स्टोर होता है । जब कम्प्यूटर बंद हो जाता है यानी की बिजिली की आपूर्ति बंद हो जाती है। तब RAM में स्टोर किआ गया डाटा खाली हो जाता है.

ROM

ROM एक स्थाई मेमोरी है. संगृहीत डाटा में हमेशा बदलबा किया नहीं जा सकता। ये हमेशा एक ही रेहता है. यह केबल पढ़ा जाता है. इस मेमोरी में लिख नहीं सकते . ROM के द्वारा कम्प्यूटर सिस्टम boot-up होता है. कम्प्यूटर सिस्टम को चालू करने के लिए इसकी आबश्यकता पड़ती है. इस के बिना कम्प्यूटर boot-up नहीं होती है.

Secondary Memory

ये स्थाई रूप से डाटा को संगृहीत कर के रखता है. ये बहुत धीमा रेहता है. ये Hard disk drives, SSDs, flash drives रूप में जाना जाता है.

ALU (Arithmetic Logical Unit)

इसके उपयोग अंकगणित और तार्किक संचालन के लिए उपयोग के लिए ब्यबहार किआ जाता है. ALU के पूरा नाम
Arithmetic Logical Unit से जाना जाता है. ALU को दो भागो में बिभाजित किआ गेया है. AU (arithmetic unit) और दूसरा LU (logic unit) .

CPU Full Form  CPU फुल फॉर्म क्या है?

CPU का फुल फॉर्म है Central Processing Unit

CPU कैसे काम करता है?

CPU कम्प्यूटर का एक मुख्य अंग है. इसके बिना कम्प्यूटर कुछ नहीं एक खाली डिब्बा है. CPU कम्प्यूटर में
महत्वपूर्ण कार्य को सम्पादन करता है. CPU के बिना कम्प्यूटर चल नहीं सकती। CPU के invent से आज तक पर्यायक्रम से बहुत सारे बदलबा किया गेया है. उपयोगकर्ता के सुभीधा के अनुसार ये बदलाबा आगे भी जारी रेहेगा। CPU के मुक्ष्य कार्य तीन भागो में बटा हुआ है. Fetch ,Decode ,Execute . मुख्यत ये इन भागो में बटा हुआ है.

Fetch

CPU द्वारा instruction को रिसीव किया जाता है. instruction जो संख्या की श्रृंखला होता है। ये एक प्रकार के Binary Code होता है. जो CPU से RAM को भेजा जाता है. प्रत्येक instruction जो आता है Operation का एक छोटा सा भाग होता है. CPU को ये पता होना चाहिए की अगला instruction कौन सा आ राह है.

बर्तमान instruction address को PC (Programme Counter) द्वारा रखा जाता है. Programme Counter और instruction को एक IR (Instruction Register )में रखा जाता है.PC Lenth को बढ़या जाता है ताकि अगला instruction Address के लिए reference किआ जा सके.

Decode

IR (Instruction Register ) में जब सब डाटा को स्टोर और फेच कर लिआ जाता है. तब CPU यह instruction को circuit को पास करता है.ये कार्य क्रम को instruction को Decoder कहा जाता है. यह दीये गए instruction को signals में convert कर देती है। CPU के अन्य पार्ट्स के द्वारा एक्शन के लिए पास किया जाता है.

Execute

किसी भी डाटा का प्रोसेस करने की ये आख़िरी चरण है. डिकोड किये गये instruction को पूरा करने के लिए CPU के संबधित पार्ट्स को परिणाम के स्वरुप भेज दिया जाता है complete होने के लिए . Results आम तोर पे लेखे जाते हैं CPU के register में . जहां पर ये later instruction द्वारा Reference किआ जासकता है. ये सभी प्रक्रिया के बाद उपयोगकर्ता को सही रिजल्ट CPU के द्वारा प्राप्त किआ जाता है.

CPU के प्रकार (Types of CPU )

CPU कम्प्यूटर का मुख्य अंग है. बिना CPU के कम्प्यूटर कुछ भी नहीं ये एक खाली डिब्बा है. बिना CPU के कम्प्यूटर
चल नहीं सकता। CPU कम्प्यूटर में सभी प्रकार का instruction और calculations प्रबंधन करता है. इस लिए कम्प्यूटर में CPU का योगदान बहुत बड़ जाता है. कम्प्यूटर के दूसरे components ,पार्ट्स को ये signals भेजता है.

Software Hardware प्रोग्राम के गति CPU के ऊपर निर्भर करती है. जितने पावरफुल CPU का कपैसिटी होगी उतीनी तेज गती से CPU का कार्य दक्ष्यता बड़ जाता है. इसी लिए ये महत्वपुर्ण हो जाता है। सही CPU चुने. ताकि आप की सभी काम को CPU सुचारुरूप कार्य कर सके. और कोई बाधा ना आ सके.

Hard Disk क्या है? हार्ड डिस्क का कार्य, पूरी जानकारी हिंदी में

Operating System क्या है? कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिंदी में

Single Core CPU

Single Core CPU सब से पुराने बाला कम्प्यूटर में ब्यबहार किआ जाता था. Single Core CPU में एक ही समये पे
एक ही operation को अंजाम दे पाता था. उपयोगकर्ता एक ही समये पे एक ही operation करता है तो CPU ठीक ठाक चलता था. जब उपयोगकर्ता एक ही समये पी अनेक operation करने के लिए चाहता था तो CPU कार्य को अंजाम नहीं दे पाता था. जब तक उपयोगकर्ता एक operation को बंद नहीं करता तो दूसरे operation कार्य कर नहीं पाता था. ये Single Core CPU का बहुत बड़ा डेमेरिट्स था.

Dual Core CPUs

नाम से ही पता चल जाता है की। ये Dual Core का CPU है. इस में दो कोर होते हैं. इस प्रकार CPU में दो प्रकार का
CPU होते हैं. इसी लिए ये एक ही समये पे बहुत सरे operations बिना किसी रुकाबट के अंजाम दे सकता है. ये बहुत
सरे काम को एक साथ मैनेज कर सकता है. ये Single Core CPU से ज्यादा तेज रहेता है. इस में उपयोगकर्ता एक साथ बहुत सारे काम को अंजाम दे सकता है.

Quad Core CPUs

इस में Four Cores का एक सिंगल CPU का फीचर्स किआ जाता है. इस में CPU कार्य को बिभाजित कर के चारो cores में बाँट दिया जाता है. ताकि CPU जेतीनी भी बोझ पड़े आसानी से सुचारु ढंग से अपनी काम को अंजाम दे सके. उपयोगकर्ता को एक ही समये पे बहुत सारे काम को अंजाम दे सकता है . जैसे की Video editing ,Games,Designing इस प्रकार के कार्य को आसानी से काम कर सकता है.

Multi-Core Processors क्या है?

बास्तव रूप में ये एक CPU है। इस में दो या उसे अधिक इंडिपेंडेंट cores लगे होतेँ है. core सामान्य processor तरह समान होते हैं. ये instruction प्रोग्राम को execute करता है. ये एक ही समय पे कई सारे instructions को चला सकता है. यह सुभीधा इसकी गति को बहुत मात्रा में बढा देती है.

CPU के Clock स्पीड क्या होता है?

एक प्रोसेसर एक second में कितने नंबर instruction को निष्पादित करता है. उसे CPU के Clock स्पीड कहा जाता है. इस Clock स्पीड को GHz में मापा जाता है. ये इंगित करता है pc कीतीनी जल्दी डाटा को decode करता है. और डिकोड डाटा को कितने जल्दी निष्पादित करता है.

USB Full Form क्या है? यूएसबी के प्रकार जानकारी हिंदी में

DCA Course क्या है ? DCA का फुल फॉर्म क्या है? पूरी जानकारी हिंदी में

हम उम्मीद करते की ये लेख CPU क्या है?CPU के हिसे ,CPU कैसे काम करता है? CPU के प्रकार, CPU के Clock स्पीड क्या होता है? cpu full form ये सब इसी article में समझने के ये छोटा सा प्रयास किया गया है. CPU क्या है जो आप लोगो को पसंद आया होगा. आप के मन में इस आर्टिकल बारे में कुछ भी doubts है .या फिर article में और सुधर किया जासकता है. तो कृपया कर के नीचे comment करे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here