Operating System क्या है? कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिंदी में

Operating System क्या है? आज की डिजिटल के दुनिआ में बहुत सारे लोग कंप्यूटर का उपयोग करते हैं. जो लोग कंप्यूटर चलाते हैं operating system क्या है इस के बारे में बहुत ज्यादा या फिर थोड़ा बहुत तो जानतें होंगे. जो लोग नहीं चलाते होंगे फिर भी कहीं ना कही operating system का शब्द सुनते होंगे.

Operating System कंप्यूटर में महत्वपूर्ण कार्य करता है. इस के बिना कंप्यूटर कुछ नहीं है. इस के बिना कंप्यूटर चल नहीं सकता। operating system एक प्रणाली होता है। जो कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को उपयोगकर्ता के ब्यबहार उपयोगी सहज सरल कर ने के लिए operating system काम करता है.

इसे कंप्यूटर का operating system (OS )कहा जाता है. कंप्यूटर का उपयोग हर जगह किआ जा रहा है. बैंक हो,स्कूल हो,कॉलेज हो,रेलवे हो,हॉस्प्टिकल हो,हर जगह कंप्यूटर का उपयोग किआ जा रहा है. आज काल स्मार्ट फ़ोन का ज़माना चल रहा है. स्मार्ट फ़ोन भी एक डिजिटल डिवाइस है. उस में भी operating system का उपयोग किआ जाता है. बिना operating system के कंप्यूटर हो या पहिए मोबाइल हो चल नहीं सकती.

आप लोग जब भी आपने फ्रेंड्स ,कॉलिक्स के सामने operating system के बारे में चर्चा करते होंगे तो आप लोगो ने Windows,Linux,Mac ये सब operating system के बारे में चर्चा करते होंगे। कौन सा operating system ठीक है. कौन सा operating system में प्रॉब्लम है। स्मार्टफोन के लिए भी बहुत सारे operating system है जैसे की ,Android Oreo ,Android kitkat ,iOS,Symbian OS,ऐसे बहुत सारे Operating system है।

आप में से बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं जो कंप्यूटर,स्मार्टफोन तो ब्यबहार करते है. लेकिन operating system क्या है. कैसे काम करता है. ये सब बारे में कम जानते होंगे. ये सब के बारे में आज हम इस लेख में बिस्तार रूप से चर्चा करेंगे.

Operating System क्या है

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? Operating System क्या है

ऑपरेटिंग सिस्टम(OS ) एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है. जो उपयोगकर्ता को कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर संसाधन का सहज और सरल उपयोगी रूप में उपयोगकर्ता के सामने प्रबंधन करता है. और कंप्यूटर प्रोग्राम के लिए अन्य सेबायें को प्रदान करता है.OS के द्वारा हीं उपयोगकर्ता कंप्यूटर को खोल के चला सकता है.

और कंप्यूटर में काम जैसे की आर्टिकल लेखाना,वीडियो देखना,गाना सुनना ,डीटीपी करना,फोटोशॉप में फोटो एडिटिंग करना ,ये जैसे काम उपयोगकर्ता कर सकता है. कंप्यूटर में ऍप्लिकेशन्स सॉफ्टवेयर को चलाने के लिए भी OS की जरुरत पड़ती है. OS कंप्यूटर के कार्य को सुचारु रूप से संपादन करने के लिए अनुसूची करता है और इसमें प्रोसेसर समय ,स्टोरेज और अन्य संसाधनों का लगत को आबंटित करता है. OS कंप्यूटर का सभी प्रकार के कार्य को संचालित और नियंत्रित करता है.

ऑपरेटिंग सिस्टम फंक्शन Operating System Functions

कंप्यूटर के इनपुट/आउटपुट ,मेमोरी आबंटन जैसे हार्डवेयर कार्य को OS कार्यक्रम और कंप्यूटर की हार्डवेयर कार्यक्रम के बिच में ये मध्यस्थी के रूप में काम करती है. OS का मुख्य उद्देश्य ये है की उपयोगकर्ता को एक ऐसा मंच प्रदान करे जहां उपयोगकर्ता अपना काम सुचारु रूप से काम कर सके.

Process management

OS कंप्यूटर सिस्टम का एक अभिन्न अंग है. इसके बिना कंप्यूटर कुछ नहीं है. OS संशाधनो को प्रक्रीया के लिए आबंटन करता है. सुचनाओ को साझां कर ने के लिए सूचनाओं को आदान प्रदान करने के लिए प्रक्रियाओं को सक्षम करता है. OS कंप्यूटर का प्रोसेस मैनेजमेंट करता है.ये अन्य प्रक्रियाओं से प्रत्येक प्रक्रियाओं का संशाधन को सुरक्षित रखता है.

मल्टीप्रोग्रामिंग OS जैसे केई प्रक्रिया को एक ही समवर्ती समय सीमा में कार्य को निस्पादित करती है. मल्टीप्रोग्रामिंग OS में प्रोसेसर को प्रत्येक प्रक्रिया के लिए समय पर आवंटित किया जाता है। और सही समय पैर आवंटित प्रक्रिया को निकाल लिया जाये. प्रोसेसर को एक प्रक्रिया के निष्पादन के द्वारां de-allocated किया जाता है। इस प्रक्रिया को इस तरह किया जाता है की बाद में दुबारा प्रक्रिया को आरम्भ किया जा सके.

OS देखता है जब एक प्रोसेस का ख़तम हो जाता है तो प्रोसेसर को दूसरे काम मेंलगा देता है. अगर कुछ भी काम नहीं है तो OS प्रोसेसर को मुक्त कर देता है.

Memory management

Memory management OS का एक प्रमुख कार्य है. जब भी उपयोगकर्ता कोई भी प्रोग्रम्मे या फिर कोई एप्लीकेशन को निष्पादित करता है। सब से पहले main memory के ऊपर लोड होती है. CPU के main memory को प्रबंधन करता है. मेमोरी मैनेजमेंट कार्यक्रम के अनुसार मेमोरी के कुछ हिस्सों को गतिशील रूप से आवंटन करता है . और जब आवश्यकता ना हो तो पुनः उपयोग के लिए उसे मुक्त करे.

OS Main Memory को मैनेज करता है। ये Main Memory का कौन सा भाग कब ब्यबहार किआ जाएगा कब ब्यबहार नहीं किआ जायेगा ये सब देखता है. । जब कोई प्रोसेस मेमोरी का मांग करता है तो OS उसे प्रबंधन करबाता है. Multi programming में OS यह सुनिश्चित करता है की सभी प्रोसेस द्वारा मेमोरी का ब्यबहार किआ जा सके. आवंटन के सठीक स्थान पहले से पता नहीं है ।

इस लिए मेमोरी को अप्रत्यक्ष रूप से एक पॉइंटर सन्दर्भ के माध्यम से एक्सेस किआ जाता है. मेमोरी क्षेत्र में एक ब्यबस्थीत क्षेत्र बनाने के लिए आवंटित करने के लिए और हटाने के लिए जो एल्गोरिथ्म उपयोग किआ जाता है वे कर्नल के साथ जुड़ा रहता है.

Interrupt

सिस्टम की खराबी से बचने के लिए OS उसमे आरहे errors को लगातार डिटेक्ट करता रहता है. और रिकवर करता है.
एक रुकाबट के स्थिती उत्पन्न होने से प्रोसेसर को सूचित करती है. और अनुमति दिए जाने पर और बर्तमान में निष्पादित कोड बाधित करने के लिए प्रोसेसर अनुरोध के रूप में कार्य करता है.

ताकि घटना को ठीक समय पे संसाधित किआ जा सके. अगर अनुरोध को स्वीकार किआ जाता है तो प्रोसेसर अपनी बर्तमान गतिबिधिओं को रोक देता है. OS हर समय पर आरही error को लगातार मॉनिटरिंग करता रहेता हैं.

File system

एक फाइल सिस्टम या फिर फाइल मैनेजमेंट ये नियंत्रित करता है की डाटा किस तरह संगृहीत और पुनर्प्राप्त किआ जा सके. कंप्यूटर में महजूद फाइल को कैसे आसानी से ब्यबहार किआ जाए उसे देख ने के लिए OS का बहुत बड़ा जोगदान रहता है. ये सब फाइल को संगठित कर के रखता है.

Device Management

Device Management OS का एक महत्वपूर्ण कार्य है. जिसके द्वारा कंप्यूटर सुचारु रूप से चलता है. कंप्यूटर सिस्टम में जीतने भी हार्डवेयर उपकरणों को प्रबंधन करने की जिम्मेदारी Device प्रबंधन के ऊपर रहता है. स्टोरेज डिवाइस के प्रबंधन के साथ साथ ये कंप्यूटर सिस्टम में सभी इनपुट/आउटपुट डिवाइस का प्रबंधन भी शामिल हो सकता है. एक OS डिवाइस कंट्रोलर और डिवाइस ड्राइवर के मदत से कंप्यूटर सिस्टम के उपकरणों को प्रबंधन करता है.

Software और उपयोगकर्ता के बिच ताल मेल रखना उपयोगकर्ता और सिस्टम के बिच आछे तरह से कम्यूनिकेट रखता है.अलग अलग सॉफ्टवेर के उपयोगकर्ता के साथ OS जोड़ता रेहेता है जिसे उपयोगकर्ता आसानीसे अलग अलग सॉफ्टवेर में कार्य कर सके .

ऑपरेटिंग सिस्टम के नाम

विभिन्न कार्य के लिए विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तिमाल किया जाता है.आज हम जादातर लोग जो ऑपरेटिंग सिस्टम को ब्याभार करतें है . उन ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में थोड़ा सा चर्चा करेंगे.

Microsoft Windows
Linux Operating System
Mac OS
Ubuntu OS
Android OS
iOs
Symbin OS
MS-DOS

ऑपरेटिंग सिस्टम के विभिन्न प्रकार – Types of Operating System हिंदी मैं

कैसे मनुष्य को सहज और सरल उपाय से डिजिटल टेक्नोलॉजी का लाव दिआ जाए। इस लिए हर वक्त बैज्ञानिको ने रिसर्च करते रहतें है. जैसे जैसे कंप्यूटर का बिकाश धीरे धीरे आगे बढ़ता गया ठीक OS(Operating System ) का भी बिकाश होता रहता है. OS तो बहुत से श्रेणियों में बाटा गया है. लेकिन हम इस लेख में जो मुख्य श्रेणी है उसके वारे में चर्चा करेंगे.

  • Multi-user Operating System
  • Single-user Operating System
  • Multitasking Operating System
  • Network Operating System
  • Multiprocessor Operating System
  • Real Time Operating System

Multi-user Operating System हिंदी मैं

ये Operating System एक से अधीक उपयोगकर्ताओं को एक साथ काम करने के सुबिधा प्रदान करता है. ये Operating System में एक से अधीक उपयोगकर्ता एक साथ एक ही समाये पे काम कर ने की सुबिधा प्रदान किया जाता है.

Single-user Operating System

ये Operating System एक ही समाये पे एक ही उपयोगकर्ता काम करने के सुबिधा प्रदान करती है .

Multitasking Operating System

ये Operating System के द्वारा उपयोगकर्ता एक ही समाये पे एक ही साथ बहुत सारे काम कर ने की सुभिधा प्रदान करती है.

Multiprocessor Operating System

ये Operating System में बहुत सारे processor एक ही Operating System के उंदर काम करतें है.ये हायर कंप्यूटिंग पॉवर और जादा स्पीड प्रदान करती है.इसमें कंप्यूटिंग पॉवर बहुत ही तेज रेहेति है.

Real Time Operating System

ये सबसे एडवांस Operating System है. उपयोगकर्ता के दिए गये निर्देश को तुरंत कार्य को संपादन करती है.

ऑपरेटिंग सिस्टम के विशेषता

Operating System बहुत सारे कंप्यूटर प्रोग्राम को लेके OS बनता है. OS का मुख्य काम है जो दुसुरे प्रोग्राम को उपयोगकर्ता आसानीसे चला सके . ऑपरेटिंग सिस्टम का काम ये है की सिस्टम में हो रही खराबी को अबगत कराना .
उपयोगकर्ता और कंप्यूटर के बिच आछे तरह ताल मेल रखना .कंप्यूटर में सारे एप्लीकेशन software को आछी तरह रन कराना ऑपरेटिंग सिस्टम का responsibility हमेशा रेहेता है.ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर के सारे इनपुट/आउटपुट device को कण्ट्रोल करता है .ताकि उपयोगकर्ता आसानीसे काम कर सके.

इस आर्टिकल में हमने आज Operating System क्या है? ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे काम करता है.ऑपरेटिंग सिस्टम के उपयोग और इसके प्रकार हम उम्मीद करते की ये लेख ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ? ये सब इस article में समझने के ये छोटा सा प्रयास किया गया है.जो आप लोगो को पसंद आया होगा. आप के मन में इस आर्टिकल बारे में कुछ भी doubts है .या फिर article में और सुधर किया जासकता है. तो कृपया कर के नीचे comment करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here